Haryana Politics: हरियाणा में हार से गुस्साए रणजीत चौटाला का ऐलान, बोले- जयचंदों की विधानसभा टिकट कटवाऊंगा

नरेन्द्र सहारण, हिसार। Haryana Politics: हरियाणा की हिसार लोकसभा से भाजपा उम्मीदवार रहे रणजीत चौटाला ने सिरसा की रानियां विधानसभा से चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। हिसार लोकसभा में हार को लेकर भाजपा के कर्इ नेताओं पर नाराज हैं। हरियाणा के राजनीतिक मैदान में एक नई कड़ी शुरू हुई है जब भाजपा उम्मीदवार रणजीत चौटाला ने हाल ही में अपनी नाराजगी और आपत्ति जाहिर की, जिसमें उन्होंने बयान दिया कि वे हरियाणा के ‘जयचंदों’ को विधानसभा टिकट कटवाउंगा। यह बयान सिर्फ राजनीतिक मंच पर ही नहीं, बल्कि समाज में भी गहरा प्रभाव डाला। माना जा रहा है कि रणजीत विधानसभा में लड़ते हुए भी सिरसा और हिसार लोकसभा में टिकट वितरण से लेकर चुनाव प्रचार तक की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। इसके संकेत खुद चौटाला ने हिसार और सिरसा में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में दिए।

अच्छे उम्मीदवारों को जितवाएंगे

रणजीत चौटाला का यह बयान उनके राजनीतिक सामर्थ्य और स्वाभिमान का प्रतीक बन गया। चौटाला ने कहा कि वह हिसार और सिरसा से विधानसभा चुनाव में अच्छे उम्मीदवारों को टिकट दिलवाएंगे और उन्हें जितवाने के लिए काम करेंगे। इसके साथ ही रणजीत ने कहा कि आगामी विधानसभा में जयचंदों का इलाज भी होगा।

हिसार और सिरसा में कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान रणजीत चौटाला।

भितरघात करने वालों का टिकट कटवाएंगे

इससे साफ है कि रणजीत चौटाला उन नेताओं की टिकट कटवाएंगे, जिन्होंने सिरसा और हिसार दोनों जगह भाजपा उम्मीदवारों को लेकर भितरघात किया। रणजीत चौटाला ने अपनी ताकत भी समर्थकों को बताई। रणजीत ने कहा कि वह टिकट वितरण को लेकर सीधा हाईकमान से बात करेंगे।

हिसार में दी थी भितरघात करने वालों को चुनौती

रणजीत चौटाला ने हिसार के कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान चुनाव में भितरघात करने वाले नेताओं को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा कि उनके मंसूबे कभी कामयाब नहीं होगे। रणजीत ने कहा कि जयचंद हर युग में और हर जगह होते हैं, लेकिन हिसार में जो जयचंद हैं, वह उनका पीछा नहीं छोड़ेंगे और न ही वह जयचंदों के डर से हिसार छोड़ेंगे।

रणजीत चौटाला ने विरोधियों को गिनवाई अपनी ताकत

रणजीत सिंह ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जब सिरसा आए तो वह मेरे घर 40 मिनट रुके। शाह ने एक मैसेज देने का काम किया। वह किसी के घर नहीं जाते मगर मेरे घर आए। इससे कई लोगों को तकलीफ हुई, उनके पेट में दर्द हुआ और मेरे खिलाफ चुनाव में जयचंद पैदा हो गए। उन्हें इस बात से तकलीफ थी कि कहीं रणजीत सिंह आगे न बढ़ जाए। इसलिए, लोकसभा चुनाव में मुझे जयचंदों ने कमजोर किया, मगर उन लोगों का इलाज मैं करूंगा। मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अमित शाह सबका समय मिलता है।

रणजीत सिंह पार होने वाला नहीं

नाराजगी जाहिर करते हुए रणजीत चौटाला ने कहा कि किसी के मन में गलतफहमी हो कि रणजीत सिंह को पार कर दिया, मगर रणजीत सिंह पार होने वाला नहीं है। रणजीत सिंह यही बैठेगा। चौटाला ने कहा था कि हिसार भाजपा में जो जयचंद हैं उनकी रिपोर्ट वह पूर्व सीएम मनोहर लाल को लिखित में दे चुके हैं। अब वह दोबारा दिल्ली जाएंगे और अमित शाह और जेपी नड्‌डा को भी अवगत करवाएंगे।

रणजीत चौटाला का ऑडियो वायरल होने से मचा है घमासान

हाल में रणजीत चौटाला की एक कॉल रिकॉर्डिंग ने भाजपा में घमासान मचा दिया है। सोशल मीडिया पर वायरल हुई यह कॉल रिकॉर्डिंग 1 मिनट 24 सेकेंड की है, जिसमें रणजीत चौटाला हार के लिए हिसार के बड़े नेताओं कैप्टन अभिमन्यु, कुलदीप बिश्नोई, रणधीर पनिहार और भाजपा चुनाव समिति के चेयरमैन सुभाष बराला को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। हालांकि, इस कॉल रिकॉर्डिंग में रणजीत चौटाला की आवाज की भारत न्यू मीडिया पुष्टि नहीं करता।

मैं इनको माफ नहीं करता

रणजीत चौटाला हिसार के रहने वाले बलजीत सिंह से फोन पर बात कर रहे हैं। इसमें रणजीत नामक शख्स कह रहा है कि इनकी खिंचाई करेंगे, चिंता मत करो, मैं इनको माफ नहीं करता। वहीं, हिसार में रखे कार्यक्रम में रणजीत के बैनर पर कुलदीप बिश्नोई, कैप्टन अभिमन्यु और सुभाष बराला की फोटो नहीं लगाई गई।

इन विधानसभा सीटों पर नजर

चौटाला की सिरसा लोकसभा की सभी सीटों पर पसंद का उम्मीदवार उतारना चाहते हैं। इसके अलावा हिसार लोकसभा में भी पसंद के नेताओं को टिकट दिलवाने के लिए आगामी विधानसभा के लिए लॉबिंग करेंगे। उनके निशाने पर नारनौंद, आदमपुर, नलवा और उकलाना विधानसभाएं हैं।

यहां वह उन लोगों के टिकट कटवाना चाहते हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के दौरान भितरघात किया। वह अपनी हार का बदला इन विधानसभाओं में भितरघात करने वाले नेताओं की टिकट कटवाकर और पार्टी को जितवाकर लेने का मन बना रहे हैं।

रणजीत के निशाने पर ये बड़े नेता

 

सुभाष बराला: बराला हरियाणा में भाजपा के अध्यक्ष रह चुके हैं। उन्हें भाजपा ने राज्यसभा सांसद बनाया है। लोकसभा चुनाव को लेकर उन्हें हरियाणा में लोकसभा चुनाव प्रबंधन समिति का संयोजक बनाया गया था। हिसार में जिले की टीम में उनके कई करीबी हैं, जो चुनाव में सक्रिय नहीं रहे।

कैप्टन अभिमन्यु: ये मनोहर लाल की पहली सरकार में वित्त मंत्री रह चुके हैं। इनका विधानसभा इलाका नारनौंद है। 2019 के विधानसभा चुनाव में इनको हार का सामना करना पड़ा। 2024 के लोकसभा चुनाव में नारनौंद से कांग्रेस उम्मीदवार जयप्रकाश को 86 हजार 144 वोट मिले, जबकि रणजीत चौटाला को 41 हजार 350 वोट मिले। इस तरह जय प्रकार को 44 हजार 794 वोट ज्यादा मिले। इस लिहाज से इस विधानसभा में चौटाला की करारी हार हुई।

कुलदीप बिश्नोई: आदमपुर को बिश्नोई परिवार की पैतृक सीट माना जाता है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार जयप्रकाश को यहां से 59 हजार 540 वोट मिले, जबकि रणजीत चौटाला 53 हजार 156 मत मिले। आदमपुर में रणजीत चौटाला जयप्रकाश से 6,384 वोट से पीछे रहे। वहीं दूसरी ओर 2 साल पहले हुए आदमपुर उप चुनाव में यहां से भव्य बिश्नोई जयप्रकाश से करीब 15 हजार से अधिक वोटों से जीते थे।

रणधीर पनिहार: परिहार नलवा से भाजपा के बड़े नेता हैं। ये पूर्व में कांग्रेस में भी रह चुके हैं। यहां से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं। इस विधानसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार जयप्रकाश को 55 हजार 362 वोट मिले, जबकि रणजीत को 52 हजार 923 वोट मिले। रणजीत चौटाला यहां कांग्रेस के जयप्रकाश से 2,439 वोट से पीछे रहे।

 

CLICK TO VIEW WHATSAAP CHANNEL

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

 

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

You may have missed