Iran News: ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, मौसम बना बाधा; पीएम मोदी ने सलामती की प्रार्थना की

ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी।

दुबई, एजेंसी : Ebrahim Raisi: ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को ले जा रहे हेलीकाप्टर को रविवार को पूर्वी अजरबैजान प्रांत में खराब मौसम की वजह से ‘हार्ड लैंडिंग’ करनी पड़ी। राष्ट्रपति की स्थिति के बारे में आधिकारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं मिल सकी है, लेकिन एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि वह सुरक्षित हैं और जमीनी रास्ते से तबरिज जा रहे हैं। इस बीच, बचाव दल लैडिंग स्थल पर पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन खराब मौसम की वजह से इसमें बाधा आ रही है। लैंडिंग स्थल वन क्षेत्र है और वहां हवाओं के साथ भारी बारिश और कोहरे की सूचना है। देशभर में उनकी कुशलता के लिए प्रार्थना की जा रही है।

पीएम मोदी ने की प्रार्थना

पीएम मोदी ने एक्स पर लिखा कि आज राष्ट्रपति राईसी के हेलीकॉप्टर उड़ान के संबंध में रिपोर्टों से अत्यधिक चिंतित हूं। हम संकट की इस घड़ी में ईरानी लोगों के साथ एकजुटता से खड़े हैं और राष्ट्रपति और उनके साथियों की भलाई के लिए प्रार्थना करते हैं।

शहर जोल्फा के नजदीक ‘हार्ड लैंडिंग’ करनी पड़ी

ईरान के सरकारी टीवी के मुताबिक, रईसी पड़ोसी देश अजरबैजान की एक दिन की यात्रा पर गए थे, जहां उन्होंने अपने समकक्ष इल्हाम अलियेव के साथ मिलकर संयुक्त रूप से निर्मित एक बांध का उद्घाटन किया था। लौटते समय उनके हेलीकाप्टर को अजरबैजान से लगती सीमा पर ईरान के पूर्वी अजरबैजान प्रांत में स्थित शहर जोल्फा के नजदीक ‘हार्ड लैंडिंग’ करनी पड़ी। यह शहर राजधानी तेहरान के उत्तर-पश्चिम में करीब 600 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। राष्ट्रपति के हवाई काफिले में तीन हेलीकाप्टर थे, जिनमें से दो सुरक्षित अपने गंतव्य तक पहुंच गए। राष्ट्रपति के हेलीकाप्टर में देश के विदेश मंत्री हुसैन अमीरअब्दुल्लाहियन, पूर्वी अजरबैजान प्रांत के गवर्नर और अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

हेलीकाप्टर तक पहुंचने में समय लग सकता है

एक स्थानीय सरकारी अधिकारी ने घटना के लिए “क्रैश” शब्द का इस्तेमाल किया, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि वह अभी तक लैंडिंग स्थल पर नहीं पहुंच पाए हैं। आंतरिक मंत्री अहमद वाहिदी ने सरकारी टीवी पर कहा कि बचाव दल क्षेत्र में जा रहे हैं, लेकिन खराब मौसम एवं कोहरे के कारण उन्हें हेलीकाप्टर तक पहुंचने में समय लग सकता है। क्षेत्र थोड़ा उबड़-खाबड़ है और संपर्क करना मुश्किल है। सरकार बचाव दलों के लैंडिंग स्थल पर पहुंचने और अधिक जानकारी मिलने का इंतजार कर रही है।

बहुत पुराना है हेलीकॉप्टरों का बेड़ा

उल्लेखनीय है कि ईरान के पास कई प्रकार के हेलीकाप्टर हैं, लेकिन अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों की वजह से ईरान के लिए उनके कलपुर्जे हासिल करना मुश्किल हो गया है। उसकी वायुसेना का अधिकांश बेड़ा भी 1979 से पहले का है। 63 वर्षीय रईसी एक कट्टरपंथी नेता हैं जो अतीत में देश की न्यायपालिका का नेतृत्व कर चुके हैं। उन्हें देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खमनेई का शिष्य माना जाता है और उन्हें उनके उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जाता है।

 

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

 

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0