नूपुर शर्मा-टी राजा समेत हिंदू नेताओं की हत्या की साजिश रच रहा था मौलाना, सूरत से हुआ गिरफ्तार

सूरत, बीएनएम न्यूजः गुजरात के सूरत में एक हिंदू संगठन के नेता की हत्या समेत सुदर्शन टेलीविजन चैनल के मुख्य संपादक, तेलंगाना के भाजपा विधायक राजा सिंह और इसी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा को धमकी देने और हत्या की  कथित तौर पर साजिश रचने के आरोप में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी और कहा कि आरोपी पाकिस्तान और नेपाल में स्थित अपने आकाओं के साथ मिलकर यह साजिश रच रहा था।

क्राइम ब्रांच ने मौलवी मोहम्मद सोहेल का फोन भी बरामद किया है। वो पिछले डेढ़ साल से पाकिस्तान के मोबाइल नंबर +923007306635 पर डोंगर नाम के व्यक्ति और नेपाल के शहनाज नाम के व्यक्ति से +977989717763 पर व्हाट्सएप के जरिए संपर्क में था।

पाकिस्तान से मांग रहा था हथियार 

सूरत के पुलिस आयुक्त अनुपम सिंह गहलोत ने गिरफ्तार आरोपी की पहचान मौलवी सोहेल अबुबक्र तिमोल (27) के रूप में की, जो एक धागा फैक्टरी में प्रबंधक के रूप में काम करता था और मुस्लिम बच्चों को इस्लाम पर निजी ट्यूशन देता था। गहलोत ने कहा कि उसे हिंदू सनातन संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपदेश राणा की हत्या के लिए पाकिस्तान और नेपाल के लोगों के साथ मिलकर एक करोड़ रुपए की सुपारी देने और पाकिस्तान से हथियार खरीदने की साजिश रचते पाया गया।

उपदेश राणा की हत्या के लिए एक करोड़ रुपए की पेशकश

गहलोत ने बताया, “उसे हिरासत में लेने के बाद, हमें उसके मोबाइल फोन में कई आपत्तिजनक सामग्री मिली, जिसमें उपदेश राणा की हत्या के लिए एक करोड़ रुपए की पेशकश भी शामिल थी। इसके लिए वह पाकिस्तान और नेपाल के व्यक्तियों/नंबरों से लगातार संपर्क में था।” उन्होंने कहा, “तिमोल को इस साल मार्च में राणा को धमकी देने में भी शामिल पाया गया था। आरोपी ने अपने ग्रुप कॉल में पाकिस्तान और नेपाल के नंबरों को जोड़कर लक्ष्य (राणा) को धमकी देने के लिए लाओस के एक डिजिटल नंबर का इस्तेमाल किया।”

सूरत क्राइम ब्रांच ने कहा कि अबुबकर पर काफी समय से नजर रखी जा रही थी। - Dainik Bhaskar

हिंदू नेता थे निशाने पर 

गहलोत ने कहा, “उसके फोन नंबर पर मिली तस्वीरें और अन्य विवरण से पता चलता है कि वे (आरोपी और सहयोगी) सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा और हैदराबाद के विधायक राजा सिंह को निशाना बनाने और धमकी देने के बारे में एक सुरक्षित ऐप पर चर्चा कर रहे थे। इस उद्देश्य से वे धन एकत्र करने और हथियार खरीदने की साजिश रच रहे थे।” अपराध शाखा की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आरोपी से प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि डोगर और शहनाज नाम के दो व्यक्तियों ने उससे संपर्क किया था, जिनके पास क्रमशः पाकिस्तान और नेपाल के फोन नंबर थे।

चैट से इस सेक्शन में उपदेश की फोटो शेयर की गई और उनकी हत्या की बात की गई है।

इस चैटिंग में उपदेश की हत्या की सुपारी किसी और देने की बात कर रहा है।

इस चैट में 9mm की पिस्टल खरीदने की बात की गई है।

पुलिस के गिरफ्त में ऐसे आया

सूरत के पुलिस कमिश्नर अनुपम सिंह गहलोत ने कहा कि सूरत सिटी क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि एक शख्स की हरकत देश विरोधी है और इसलिए उस पर नजर रखी जा रही है। उसे सूरत के चौक बाजार इलाके से हिरासत में लिया गया और उसका मोबाइल जब्त कर लिया गया। वह पाकिस्तान और नेपाल के लोगों से चैट कर रहा था। उसकी योजना सबसे पहले हिंदू सनातन संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपदेश राणा को निशाना बनाने की थी। सूरत क्राइम ब्रांच को पता चला था कि मौलवी अंतर्राष्ट्रीय कई देशों के लोगों के साथ व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़कर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए पोस्ट कर रहा है और हिंदूवादी एवं भाजपा के नेताओं को धमकाने और उन्हें करने के लिए षड्यंत्र रच रहा है ।
इसी जानकारी के आधार पर सूरत क्राइम ब्रांच इसकी खोज में थी। सूरत क्राइम ब्रांच को इससे संबंधित जानकारी मिली थी कि वह सूरत शहर के एक इलाके में आया हुआ है। सूरत क्राइम ब्रांच के लोग इसे हिरासत में लेकर क्राइम ब्रांच ऑफिस ले गए थे और इसके मोबाइल को जब्त कर इसे प्राथमिक पूछताछ शुरू की। प्राथमिक पूछताछ में इसके मोबाइल से क्राइम ब्रांच को जो जानकारी हाथ लगी उससे क्राइम ब्रांच भी एक बार हैरान रह गई। पाकिस्तान, नेपाल वियतनाम सहित कई देशों के लोगों के साथ व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ा मौलवी धार्मिक उन्माद फैलाने का काम कर रहा था।

धागा बनाने वाली कंपनी में काम करता है आरोपी

सूरत क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में आया अबूबकर टीमोल सूरत ग्रामीण के कामरेज तहसील अंतर्गत आने वाले कठौर गांव का रहने वाला है। आरोपी तो एक धागा बनाने वाली कंपनी में काम करता है और अपने घर पर ही मुस्लिम बच्चों को धार्मिक ज्ञान भी देता है इसलिए उसे मौलवी भी कहते हैं। सूरत क्राइम ब्रांच को इसकी कट्टरपंथी मानसिकता को लेकर कुछ दिन पहले भनक लगी थी। मोहम्मद सोहेल उर्फ मौलवी अबूवकर पिछले डेढ़ साल से पाकिस्तान के डोंगर और नेपाल के सेहनाज के साथ सोशल मीडिया पर संपर्क में था। इन तीनों की बातचीत में कहा जाता था कि भारत में नबी की गुस्ताखी में दखल दिया जाता है जिनको सीधा करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ेंः  पति के ममेरे भाई के साथ मिलकर पत्नी ने ही की थी युवक की हत्या, दोनों गिरफ्तार, जानें क्या है मामला

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0