Ind vs Zim: सात दिन बाद जिंबाब्वे से हारा विश्व चैंपियन भारत, मेजबान टीम 13 रन से जीती

नई दिल्ली, बीएनएम न्यूज: Ind vs Zim: भारतीय टीम सात दिन पूर्व जिस प्रारूप में विश्व विजेता बनकर लौटी, उसी प्रारूप में विश्व कप क्वालीफायर में उगांडा से हारकर क्वालीफाई तक नहीं कर सकी जिंबाब्वे की टीम ने उन्हें हरा दिया। इस टीम में विश्व विजेता टीम के एक भी खिलाड़ी नहीं है, पर आइपीएल में अपना दमखम दिखा चुके युवाओं से लैस टीम के लिए भी यह बड़ा उलटफेर है।

आइपीएल के शेर युवा अभिषेक शर्मा, रुतुराज गायकवाड़, रियान पराग, रिंकू सिंह समेत कप्तान शुभमन गिल पहले टी-20 मैच में जिंबाब्वे के विरुद्ध ढेर हो गए। पांच मैचों की टी-20 सीरीज के पहले मैच में ही शुभमन गिल की अगुआई में हरारे पहुंची भारतीय युवा टीम को मेजबान टीम ने 13 रनों से हराकर बड़ा उलटफेर कर दिया।

लेग स्पिनर रवि बिश्नोई की अगुआई में भारतीय गेंदबाजों ने जिंबाब्वे को नौ विकेट पर 115 रन पर रोक दिया था, पर उछाल भरी पिच पर भारतीय बल्लेबाजों को काफी मुश्किल आई जिसने पावरप्ले में चार विकेट गंवा दिए और पूरी टीम 19.5 ओवर में 102 रन पर सिमट गई। 12 मैचों से अजेय रही भारतीय टीम की यह इस वर्ष की पहली हार है। कप्तान गिल ने टीम की ओर से सर्वाधिक 31 रन बनाए।

युवाओं ने किया निराश

 

रोहित शर्मा, विराट कोहली और रवींद्र जडेजा के संन्यास के बाद अब टीम का दारोमदार इन्हीं युवाओं पर होगा, परंतु अपनी पहली परीक्षा में यह टीम बुरी तरह से विफल हो गई। इसके साथ ही एक शर्मनाक रिकार्ड भी भारतीय टीम ने मैच में बना लिया। आठ वर्षों में भारतीय टीम का आल आउट होने पर यह न्यूनतम स्कोर है। भारतीय टीम टी-20 अंतरराष्ट्रीय में पहली ऐसी टीम बन गई जिसने विपक्षी टीम के 100 रनों के भीतर नौ विकेट चटकाने के बावजूद उनसे मैच हार गई।

शुरुआत में ही लड़खड़ाई टीम

 

बीसीसीआइ ने जिंबाब्वे दौरे पर युवा खिलाड़ियों को अवसर दिया है और उनके आसानी से जिंबाब्वे पर जीत की आशा थी, लेकिन जिंबाब्वे ने तेज गेंदबाज टेंडाई चतारा (16 रन देकर तीन विकेट) और कप्तान सिंकदर रजा (25 रन देकर तीन विकेट) के दम पर भारत को हराकर उलटफेर कर दिया। यह आठ वर्षों में जिंबाब्वे के विरुद्ध भारत की पहली हार भी है।

भारतीय टीम में शनिवार को अभिषेक शर्मा, रियान पराग और ध्रुव जुरैल ने पदार्पण किया। ओपनिंग करने आए अभिषेक शर्मा (0) खाता भी नहीं खोल सके और पारी के पहले ही ओवर में ब्रायन बेनेट की गेंद पर डीप स्क्वायर लेग पर वेलिंगटन मास्काद्जा को कैच देकर आउट हुए।

उनके बाद रुतुराज गायकवाड़ (07), रियान पराग (02) और रिंकू सिंह (0) आउट हो गए और पांचवें ओवर में भारतीय टीम का स्कोर चार विकेट पर 22 रन हो गया। कप्तान शुभमन गिल (31 रन) एक छोर पर डटे थे और दूसरे छोर पर लगातार विकेट गिरते देख रहे थे। विकेटकीपर बल्लेबाज ध्रुव जुरेल (06) के 10वें और कप्तान गिल के 11वें ओवर में आउट होते ही पूरे ओवर तक टिकने की आशा भी समाप्त हो गई।

सुंदर ने कराया 100 पार

 

भारतीय टीम ने 11वें ओवर में ही 46 रन पर छह विकेट गंवा दिए थे। टीम का 100 रन तक पहुंचना भी मुश्किल दिख रहा था। कप्तान गिल के आउट होने के बाद वाशिंगटन सुंदर (27) ने एक छोर संभाला। पहले बिश्नोई (9) के साथ 14 रन और फिर आवेश खान (16) के साथ आठवें विकेट के लिए 23 रन जोड़कर भारत को 84 रन तक पहुंचाया। अंतिम ओवर में भारत को 16 रन चाहिए थे और एक विकेट शेष था, परंतु सुंदर के आउट होते ही भारतीय पारी समाप्त हो गई। 2007 में जब भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका में चैंपियन बनी थी, इसके बाद पहले टी-20 में आस्ट्रेलिया के विरुद्ध 74 रन पर ढेर हो गई थी।

बिश्नोई-सुंदर ने किया था अपना काम

 

इससे पहले रवि बिश्नोई (13 रन देकर चार विकेट) और आफ स्पिनर वाशिंगटन (11 रन देकर दो विकेट) ने अपना काम करते हुए बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद उछाल भरी पिच पर जिंबाब्वे की टीम को 115 रन पर रोक दिया था। जिंबाब्वे ने हालांकि तेज शुरुआत की और पावरप्ले में उसने दो विकेट पर 40 रन बना लिए थे।

छठे ओवर में बिश्नोई ने बेनेट को अपनी गुगली पर आउट कर जिंबाब्वे की पारी का रुख ही बदल दिया। कप्तान सिकंदर रजा (17 रन) के संयम से टीम ने संभलने की कोशिश की, लेकिन लय खोने के कारण 41 रन पर छह विकेट गंवा बैठी। टीम में हड़बड़ाट साफ दिख रही थी।

 

 

CLICK TO VIEW WHATSAAP CHANNEL

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

You may have missed