Haryana Rain: ओलावृष्टि एवं वर्षा ने दिलाई गर्मी से राहत, कपास फसल में नुकसान

नरेन्द्र सहारण, नारनौल: Haryana Rain: जिले में शुक्रवार को तेज धूप के बाद दोपहर के समय अचानक हुए बदलाव हो गया। मौसम में हुए बदलाव के चलते तेज हवांए चलीं तथा कई स्थानों पर वर्षा के साथ ओलावृष्टि भी हुई। पिछले चार दिनों से पड़ी रही तेज गर्मी से वर्षा ने लोगों को राहत दिलाई। वर्षा के साथ ही नांगल चौधरी सहित कई एरिया में करीब 15 मिनट तक हुई ओलावृष्टि से कपास की फसल को नुकसान होने से किसान चिंतित भी नजर आए। वहीं वर्षा से खरीफ फसल बिजाई किसानों को फायदा होगा। किसान अपनी ग्वार-बाजरे की फसल बिजाई के लिए खेत को तैयार कर सकेंगे। वहीं अक्षय तृतीया पर होने वाले शादी समारोह में मौसम खराब होने से खलल पड़ गया। क्षेत्र में पिछले कई दिनों से तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक चल रहा था। तेज गर्मी के कारण लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही थी। नारनौल में न्यूनतम तापमान 26.0 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 43.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

अचानक बदला मौसम

क्षेत्र में प्रचंड गर्मी की वजह से पारा 42 पार हो गया था। सुबह से देर रात तक चलने वाली गर्म हवाओं में लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा था। हीट वेव की वजह से बच्चों में उल्टी-दस्त की शिकायत आम हो गई। वहीं युवा व बुजुर्ग भी जरूरी काम से ही घर से निकल रहे थे। एसी व कूलर भी गर्मी से राहत प्रदान करने में असफल साबित होने लगे, लेकिन शक्रवार को तेज गर्मी के बीच दोपहर दो बजे बाद मौसम अचानक बदल गया। आसमान में घने बादल छाए ओर गड़गड़ाहट शुरू हुई। दस मिनट की गड़गड़ाहट के बीच ही इंद्रदेव ने बरसना शुरू कर दिया। तेज वर्षा के साथ करीब पंद्रह मिनट तक ओले भी गिरे। इसके बाद वर्षा ने रफ्तार पकड़ ली। करीब एक घंटे तक हुई तेज वर्षा से मौसम खुशनुमा हुआ और लोगों ने घरों से बाहर निकलकर वर्षा का आनंद लिया।

कपास फसल को नुकसान

वर्षा से कुछ कपास किसानों चिंतित जरूर नजर आए। इस बार रेतीले क्षेत्र के किसानों ने भी कपास फसल को तव्वजो दी थी। कई किसानों ने बताया कि उन्होंने अभी दो से तीन दिन पहले ही कपास फसल बिजाई की थी। इससे उनकी फसल को नुकसान होने से काफी आर्थिक नुकसान हुआ है। उन्हें अब दोबारा से ही कपास फसल की बिजाई करनी पड़ेगी।

खरीफ की फसलों के लिए किसानों को होगा फायदा

वर्षा से खरीफ फसल बिजाई के लिए खेतों को तैयार करने के लिए किसानों को काफी फायदा होगा। किसान खेतों में गोबर की खाद डाल बुआई कर खेत को तैयार कर सकेंगे। इसके बाद समय पर ग्वार-बाजरे की बिजाई कर बंपर उत्पादन ले सकेंगे।

कपास की फसल को नुकसान संभव

नांगल चौधरी के खंड तकनीकी प्रबंधक कृषि कार्यालय डा. जसवंत रावत ने कहा कि तेज वर्षा व ओलावृष्टि से कपास की फसल को नुकसान संभव है। जिन किसानों की कपास की फसल अंकुरित नहीं हुई है, वर्षा के कारण उनके अंकुरण की संभावना कम हो गई है, क्योंकि वर्षा के कारण मिट्टी से बीज दब गए हैं।

Tag- Haryana Rain, Narnaul News, Haryana News, Hail and rain In Haryana, cotton crop, Kharif crops

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0