Panchkula Court: पंचकूला कोर्ट से कांग्रेस उम्मीदवार बुद्धिराजा को मिली बेल, करनाल में मनोहर लाल के खिलाफ हैं प्रत्याशी

नरेन्द्र सहारण, पंचकूला। Panchkula Court: करनाल से कांग्रेस के उम्मीदवार दिव्यांशु बुद्धिराजा शुक्रवार को पंचकूला कोर्ट में पेश हुए। कोर्ट ने उन्हें बेल देकर उनको राहत दी है। हरियाणा युवा कांग्रेस के अध्यक्ष दिव्यांशु बुद्धिराजा ने पंचकूला में दर्ज एफआइआर व भगोड़ा घोषित करने के आदेश को रद्द करने की हाईकोर्ट से गुहार लगाई थी। कोर्ट में बुद्धिराजा के वकील ने आश्वासन दिया था कि वह जल्द ही ट्रायल कोर्ट में समर्पण कर देंगे। इस आश्वासन के बाद हाई कोर्ट ने सुनवाई सात मई तक स्थगित कर दी थी। याचिका के अनुसार उन्हें वर्ष 2018 में हरियाणा में तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर लाल के खिलाफ बेरोजगारी को लेकर बिना अनुमति फ्लैक्स बोर्ड लगाने पर दर्ज केस में भगोड़ा घोषित किया गया है।

जनवरी 2024 को दर्ज किया गया था मामला

उल्लेखनीय है कि दिव्यांशु ने फ्लैक्स बोर्ड लगाकर तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर लाल से युवाओं को रोजगार देने के लिए सवाल पूछे थे। यह मामला अभी न्यायालय में विचाराधीन है। दिव्यांशु इस मामले में न्यायालय में प्रस्तुत नहीं हुए थे, जिसके बाद उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया गया था। मामले ने तब तूल पकड़ा जब कांग्रेस ने दिव्यांशु को करनाल से लोकसभा का टिकट देकर मैदान में उतार दिया। दिव्यांशु ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में मामला रद करने के लिए याचिका लगाई थी, लेकिन वहां से जब राहत मिलती नहीं दिखी, तो उनके अधिवक्ता ने हाई कोर्ट को अपील की थी कि दिव्यांशु न्यायालय में आत्मसमर्पण कर देंगे, जिसके चलते मामले में सात मई की तिथि निर्धारित हुई थी।

नगर निगम आयुक्त की शिकायत पर हुआ था केस

हरियाणा संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम 1989 के तहत दिव्यांशु बुद्धिराजा पर 28 जनवरी 2018 को नगर निगम के प्रशासक रहे राजेश जोगपाल की शिकायत पर केस दर्ज किया था। शिकायत में कहा गया था कि एनएसयूआइ ने पंचकूला के अधिकतर चौराहों पर कई फ्लैक्स साइन बोर्ड/होर्डिंग्स लगाए हैं। इन साइन बोर्डों के निर्माण के लिए किसी भी व्यक्ति या एसोसिएशन द्वारा इस निगम से कोई अनुमति नहीं मांगी गई है। ‘हरियाणा संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम 1989 के तहत साइन बोर्ड/होर्डिंग लगाना प्रतिबंधित है, जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज किया था।

मनोहर जनता की अदालत में लेकर आएं साढ़े नौ साल के काम: बुद्धिराजा

जमानत मिलने के बाद हाथ में देश का संविधान हाथ में थामे बुद्धिराजा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि जाखो राखे सांईयां, मार साके ना कोई, बाल भी बांका ना कर सके, खट्टर जी हो कोई। बुद्धिराजा ने कहा कि उन पर युवाओं की आवाज उठाने के लिए झूठे केस डालकर बदनाम करने की कोशिश की गई है। मनोहर लाल को खुली चुनौती देते हुए दिव्यांशु ने कहा कि जनता की अदालत में आप आएं, समय और जगह आप तय करें। मनोहर लाल अपने साढ़े नौ साल के कार्यकाल के काम लेकर आएं और वह साढ़े नौ साल का कच्चा चिट्ठा लेकर आएंगे। दिव्यांशु ने कहा कि एक रिजेक्टेडेट मुख्यमंत्री को करनाल की जनता स्वीकार नहीं करेगी।

इसे भी पढ़ें:  करनाल से मनोहर लाल के सामने चुनाव लड़ रहे दिव्यांशु बुद्धिराजा को हाई कोर्ट राहत नहीं, ट्रायल कोर्ट में करेंगे समर्पण

इसे भी पढ़ें: Haryana Politics: करनाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिव्यांशु बुद्धिराजा भगोड़ा करार, जानें क्या है पूरा मामला

इसे भी पढ़ें:  Haryana Congress Candidate: कांग्रेस ने आठ सीटों पर उतारे उम्मीदवार, हुड्डा के पसंदीदा जेपी को मिला टिकट

इसे भी पढ़ेंर: Hisar Lok Sabha Seat : जयप्रकाश हिसार लोकसभा क्षेत्र से आठवीं बार मैदान में, पहली बार रणजीत चौटाला से होगा मुकाबला

इसे भी पढ़ें: Karnal Lok Sabha Seat: करनाल से हरियाणा के पूर्व सीएम के सामने कांग्रेस ने उतारा युवा चेहरा, दिव्यांशु बुद्धिराजा को दिया टिकट

 

Tag- Panchkula Court, Divyanshu Budhiraja, Congress candidate, Manohar Lal, Karnal Loksabha Seat, Haryana Politics

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

 

 

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0