Gurgaon Lok Sabha Seat: राजबब्बर ने कहा, जीतने के बाद मैं गुरुग्राम समेत पूरे क्षेत्र की तस्वीर बदलकर रख दूंगा

नरेन्द्र सहारण, गुरुग्राम। Rajbabbar: गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र को भाजपा का गढ़ माना जाता है। केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह लगातार तीसरी बार भाजपा की टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। कांग्रेस ने इस बार भाजपा के किले को भेदने के लिए प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता व पूर्व सांसद राज बब्बर को मैदान में उतारा है। शुरुआत में यह लग रहा था कि प्रचंड गर्मी में बालीवुड अभिनेता शायद ही मैदान में अधिक दिखें लेकिन उन्होंने इसके ठीक विपरीत मैदान में पूरी ताकत झोंक रखी है। सुबह आठ बजे से लोगों से संवाद करने का दौर शुरू कर देते हैं। प्रतिदिन आठ से 10 सभाएं कर रहे हैं। बेटी जूही बब्बर से लेकर दामाद तक को मैदान में उतार दिया है। सबसे बड़ी बात यह है कि राज बब्बर के नाम पर वर्षों बाद पूरी पार्टी एक सुर में दिखाई दे रही है। इस वजह से कांग्रेस का प्रचार अभियान एक साथ गुरुग्राम से लेकर रेवाड़ी तक चल रहा है। कई सवालों को लेकर कांग्रेस प्रत्याशी राज बब्बर से विस्तृत बातचीत की। प्रस्तुत हैं मुख्य अंश :

गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र के लिए आप नए हैं, क्या यह आपके लिए बड़ी चुनौती नहीं?

 

– मुझे चुनौतियां स्वीकार करने में आनंद आता है। वह क्षेत्र ही क्या जहां चुनौती न हो। जिस दिन से मैंने चुनाव प्रचार के लिए क्षेत्र में कदम रखा है, एक दिन के लिए भी पीछे नहीं हटा। सुबह से लेकर रात तक लोगों से संवाद कर रहा हूं। गुरुग्राम आते रहा हूं। मेरे लिए गुरुग्राम व आसपास के इलाके नए नहीं हैं। बहुत सारे जानकार व रिश्तेदार आसपास के इलाके में रहते हैं। चुनाव प्रचार करते मुझे कई दिन हो गए, कहीं से भी मुझे लगता कि नए क्षेत्र से चुनाव लड़ रहा हूं। लोगों का प्यार इस कदर मिल रहा है जैसे वर्षों की जान-पहचान है। हर वर्ग के लोग प्यार दे रहे हैं। लोगों की आंखों की भाषा मैं पढ़ रहा हूं। सभी बदलाव चाहते हैं। क्षेत्र में भाजपा की नाकामी मेरी जीत की कहानी लिखेगी।

प्रतिद्वंदियों का कहना है कि आप बाहरी हैं, चुनाव बाद फिर दिखाई नहीं देंगे?

 

– मैं उत्तर प्रदेश से मुंबई फिल्मी दुनिया में पहुंचा था। फिर मुंबई से उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ने के लिए पहुंचा। क्या मुंबई देश से बाहर है। क्या गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र के लोग बाहर नहीं रहते हैं। क्या उन्हें बाहर चुनाव प्रक्रिया में भाग लेने से मना किया जा सकता है। मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए स्थानीय व बाहरी की बात की जा रही है। हालांकि, अब यह चर्चा बंद हो चुकी है क्योंकि गुड़गांव के लोग काफी समझदार हैं। उन्होंने इस तरह की बेबुनियाद बात पर ध्यान देना बंद कर दिया है। गुड़गांव के लोग विकास चाहते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि पार्टी ने फैसला किया कि मैं गुड़गांव से चुनाव लड़ूं। पार्टी का आदेश सर्वोपरि है। एक अनुशासित सिपाही के नाते मैंने पार्टी का आदेश माना है। जीतने के बाद मैं चुनाव की तस्वीर बदलकर रख दूंगा।

भाजपा का कहना है कि क्षेत्र में इतने विकास हुए जितने पहले कभी नहीं हुए?

 

– मैं सीधा सवाल करता हूं। पिछले 10 साल में पुराने गुरुग्राम में मेट्रो का विस्तार क्यों नहीं हुआ। दिल्ली से अलवर तक रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम कारिडोर विकसित क्यों नहीं किया गया। पूरी दुनिया में गुरुग्राम की पहचान है, वहां एक जिला नागरिक अस्पताल तक नहीं। इससे अधिक शर्म की बात क्या होगी। रक्षा विश्वविद्यालय आज तक नहीं बना। खेड़कीदौला टोल प्लाजा आज तक नहीं हटा। ट्रैफिक जाम से पूरा शहर कराह रहा है। गुड़गांव रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण के ऊपर काम 10 सालों में नहीं हुआ। चुनाव नजदीक आते ही शिलान्यास कर दिया गया। प्रदूषण इतना बढ़ जाता है कि स्कूलों में पढ़ाई बंद करने से लेकर फैक्ट्रियां तक बंद करनी पड़ती है। नजफगढ़ ड्रेन के ओवरफ्लो होने से सैकड़ों एकड़ भूमि जलमग्न है। किसान खेती नहीं कर पा रहे हैं। पांच साल से ड्रेन के साथ-साथ बांध बनाने की योजना ही बनाई जा रही है। माता शीतला के मंदिर तक का निर्माण समय से नहीं किया गया। सीवर जाम की समस्या चारों तरफ है। कूड़ा नहीं उठाए जाने से गुरुग्राम कूड़ाग्राम बन चुका है। घरों में कूड़ा सड़ रहा है। हल्की वर्षा होते ही जलभराव हो जाता है। बिजली घंटों गुल रहती है। मानेसर एवं बिलासपुर के नजदीक आज तक फ्लाईओवर नहीं बना। नूंह इलाके में पीने का पानी तक सही से उपलब्ध नहीं। आजादी के इतने वर्षों बाद भी रेल की सिटी तक नहीं बजी। औद्योगिक विकास नहीं हुआ। रेवाड़ी जिले में राजस्थान की तरफ से पानी आ जाता है। इससे विकास प्रभावित हो रहा है। क्या भाजपा 10 साल तक शासन में रहने के बाद भी पिछली सरकारों को कोसेगी। यह नाकामी है। गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र की जनता इस बार भाजपा की नाकामी का जवाब देगी। लोग दुखी हैं इसलिए प्रचंड गर्मी में भी मेरी सभाओं में भीड़ उमड़ रही है।

एक चर्चा यह चल रही है कि आप पंजाबी हैं इसलिए आपको गुड़गांव से कांग्रेस ने उतारा है?

 

– हां, मैं पंजाबी हूं। लेकिन कभी भी पंजाबी के नाम पर राजनीति नहीं की। मैं उत्तर प्रदेश में जहां से भी सांसद रहा हूं, वहां तो पंजाबी मतदाताओं की संख्या अधिक नहीं थी। लोगों ने मुझे पंजाबी समझकर नहीं बल्कि हिंदुस्तानी समझकर अपनाया। गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र के लोगों ने मुझे अपना लिया है। यही वजह है कि हर जाति व धर्म के लोग मेरे साथ जुड़ चुके हैं। जहां जाता हूं वहां लोगों का सैलाब उमड़ रहा है। अब जाति व धर्म का कार्ड नहीं चलेगा। काम करना होगा। भाजपा ने 10 साल में काम ही नहीं किया। केवल बयानबाजी की गई। इसका खामियाजा गुड़गांव ही नहीं बल्कि देश में भुगतना होगा। युवा, महिला, बुजुर्ग, किसान, उद्यमी, व्यापारी यानी हर वर्ग के लोग परेशान हैं। बेरोजगारी की समस्या चरम पर है। पूरे देश में डर का माहौल बना दिया गया है। इस बार जनता ने जवाब देने का मन बना लिया है।

यदि आप चुनाव जीत जाते हैं तो इलाके के लिए सबसे पहला काम क्या करेंगे?

 

– मुझे पूरी उम्मीद है कि जनता का प्यार मिलेगा। चुनाव जीतते ही सबसे पहले मैं अहीर रेजिमेंट की मांग पुरजोर तरीके से संसद रखूंगा। अहीरवाल बलिदानियों की धरती है। बलिदानियों की धरती को रेजिमेंट की मांग को लेकर संघर्ष करना पड़े इससे हास्यास्पद स्थिति क्या होगी। सेना में अहीर रेजिमेंट का गठन होना ही चाहिए। मैं साठ फीसद संघर्ष कर रहे लोगों के साथ हूं। बलिदानियों का सम्मान ही राष्ट्र का सम्मान है। अहीर रेजिमेंट के गठन से इलाके के बलिदानियों एवं उनके स्वजन का मान बढ़ेगा। इससे समाज गौरव महसूस करता है। रेजिमेंट के गठन से युवाओं में देश प्रेम की भावना और बढ़ेगी। अग्निवीर योजना को बंद कराने के लिए काम करूंगा। गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र की समस्याओं की सूची मेरे पास है। एक-एक समस्या को जड़ से खत्म करूंगा।

 

भारत न्यू मीडिया पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज, Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट , धर्म-अध्यात्म और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi  के लिए क्लिक करें इंडिया सेक्‍शन

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0